भारतीय किसान यूनियन अम्बावता विधिक प्रकोष्ठ के सैंकड़ो किसानों ने तीन मांगों को लेकर जॉइंट मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन,जमकर की नारेबाजी

आरिफ नियाज़ी

रुड़की भारतीय किसान यूनियन अम्बावता के सैंकड़ो किसानों ने आज जॉइंट मजिस्ट्रेट कार्यालय पर ज़ोरदार प्रदर्शन करते हुए तीन मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। इस दौरान किसान नेताओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। इस दौरान भारतीय किसान यूनियन अम्बावता के विधिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष फरमान त्यागी एडवोकेट ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार किसानों की समस्याओं को लेकर गंभीर नहीं है सरकार ने तीन कृषि बिल लाकर किसानों को बर्बाद करने की साजिश रची है सरकार लगातार किसानों का उत्तपीड़न करने में लगी है जिसे किसान किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेगा।

फरमान त्यागी एडवोकेट ने कहा कि उन्होंने तीन मांगों को लेकर जॉइंट मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा है जिसमें इकबालपुर चीनी मील का बकाया भुगतान, बिजली विभाग के अधिकारीयो ने किसानों का उत्तपीड़न कर रखा है किसानों का समस्त कर्जा माफ किया जाए।उन्होंने आरोप लगाया कि ऊर्जा निगम बिलों के नाम पर किसानों से अवैध उगाही कर रहा है ऊर्जा विभाग द्वारा किसानों का उत्तपीड़न किसी भी सूरत बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यही नहीं केंद्र ने किसानों पर जो कृषि कानून लागू किये हैं उनको निरस्त करने की मांग को लेकर जॉइंट मजिस्ट्रेट नमामि बंसल को ज्ञापन सौंपा है । विधिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों के भुगतान को लेकर गंभीर नहीं है आज तक सरकार ने गन्ना मूल्य घोषित नहीं किया है । जिससे किसानों के सामने बड़ी परेशानी खड़ी हो रही है।

इस मौके पर विधिक प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव अब्दुल मलिक ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की लगातार उपेक्षा कर रही है किसानों की उपेक्षा किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी उन्होंने कहा कि आज देश का अन्नदाता बेहद परेशान है सरकार को किसानों की समस्या से कोई लेना देना नहीं है जिसके चलते आज किसान सड़कों पर आंदोलन करने के लिए मजबूर हो रहा है इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन अंबावता के जिला अध्यक्ष मोहम्मद इमरान अमजद अली खालिद समेत सैकड़ों किसान मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.